लेटेस्ट पोस्ट

जोशीमठ: 4 वार्डों में रहने वाले लोगों को तुरंत घर छोड़ने का आदेश दिया गया, प्रभावित परिवारों को प्रति माह 4,000 रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।

जोशीमठ, उत्तराखंड में जिला सरकार ने भूस्खलन और इमारतों में दरार के कारण चार वार्डों को खतरनाक घोषित किया है। इन इलाकों में रह रहे लोगों से भी तत्काल वहां से निकल जाने और सुरक्षित स्थानों पर शरण लेने का अनुरोध किया गया है। प्रशासन की रिपोर्ट के अनुसार, इस आपदा से सर्वाधिक प्रभावित स्थानों में सुनील वार्ड, मनोहर बाग, सिंह धार, मारवाड़ी वार्ड और गांधी नगर शामिल हैं। जिला प्रशासन ने रविवार को सर्वे लेने के बाद चार स्थानों को खतरनाक चिन्हित किया है.

इसे भी पढ़े: सरकार के सौजन्य से 75 साल बाद आखिरकार अपने गांवों में बिजली पहुंचने से जम्मू-कश्मीर के लोग बहुत खुश हैं।

प्रभावित परिवारों को 4 हजार रुपये प्रतिमाह की राशि का वितरण अब शुरू हो गया है।

इसी क्रम में सोमवार को फिर से विशेषज्ञ समिति पहुंचेगी। एनडीआरएफ की एक टीम के अलावा, एसडीआरएफ की चार टीमें पहले ही आ चुकी हैं और एनडीएमए की एक टीम भी आज पहुंच चुकी है। जिलाधिकारी चमोली के अनुसार सर्वे, बचाव और राहत के प्रयास सभी एक साथ हो रहे हैं. क्षतिग्रस्त क्षेत्रों से लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा रहा है। उन्होंने आगे बताया कि प्रभावित परिवारों को चार हजार रुपये प्रतिमाह की राशि का वितरण शुरू हो गया है.

इसे भी पढ़े: यूजर्स अब मुफ्त में Jio और Airtel के 5G नेटवर्क का आनंद ले सकते हैं

इस आपदा में फंसे पीड़ितों को जल्द ही निकाला जाएगा।

मुख्यमंत्री की सचिव आर मीनाक्षी रविवार से जोशीमठ में डेरा डाले हुए हैं. वे न केवल स्थिति पर नजर रख रहे हैं, बल्कि यहां से मुख्यमंत्री को रियल टाइम अपडेट भी मुहैया करा रहे हैं। साथ ही स्थानीय नेताओं के साथ नियमित बैठक कर राहत कार्यों में तेजी लाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आपदा में फंसे पीड़ितों को जल्द से जल्द निकाला जाएगा।

Latest Posts

Don't Miss