Sunday, April 21, 2024

भारत-UAE के बीच आर्थिक रिश्ते, क्या है पीएम मोदी के दौरे का मकसद?

Narendra Modi UAE Visit: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले एक साल में तीसरी बार UAE पहुंचे हैं। इस दो दिवसीय यात्रा के दौरान, वह कई व्यापार समझौतों पर हस्ताक्षर करने वाले हैं, जिनमें से कई को दौरे के पहले दिन अंतिम रूप दिया जाएगा। भारत और यूएई के बीच मजबूत संबंधों को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी पिछले 10 वर्षों में सात बार यूएई का दौरा कर चुके हैं।

यह यात्रा विशेष रूप से आर्थिक दृष्टि से महत्वपूर्ण महत्व रखती है, क्योंकि यूएई भारत के लिए एक महत्वपूर्ण भागीदार है। पहले दिन, भारत और यूएई ने द्विपक्षीय निवेश संधि और क्षेत्रीय कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए एक रूपरेखा समझौते सहित आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किए।

- Advertisement -

बाइलेटरल इंवेस्टमेंट ट्रीटी

यात्रा के दौरान, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और यूएई नेतृत्व ने आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किए, जिनमें से पहला द्विपक्षीय निवेश संधि थी। भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह समझौता दोनों देशों के बीच निवेश को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण महत्व रखता है। संयुक्त अरब अमीरात भारत का चौथा सबसे बड़ा विदेशी निवेशक है और दोनों देशों के बीच निवेश संधि को लेकर 2016 से चर्चा चल रही है।

भारत-मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक गलियारा।

- Advertisement -

द्विपक्षीय निवेश संधि के अलावा, भारत और संयुक्त अरब अमीरात के नेताओं ने भारत-मध्य पूर्व यूरोप आर्थिक गलियारे पर एक अंतर सरकारी फ्रेमवर्क समझौते पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते का उद्देश्य क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को आगे बढ़ाने में सहयोग बढ़ाना है। एक अन्य महत्वपूर्ण समझौता विद्युत इंटरकनेक्शन और व्यापार पर समझौता ज्ञापन था, जो ऊर्जा सुरक्षा को मजबूत करने पर केंद्रित था। अपनी चर्चा के दौरान, दोनों नेताओं ने अपनी ऊर्जा साझेदारी को मजबूत करने के महत्वपूर्ण पहलू पर जोर दिया।

इसके अलावा, पांच अतिरिक्त समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए, जिनमें डिजिटल सार्वजनिक बुनियादी ढांचे और वित्तीय भुगतान जैसे क्षेत्र शामिल हैं।

- Advertisement -
- Advertisment -

लेटेस्ट