लेटेस्ट पोस्ट

बिलावल भुट्टो ने इमरान खान की आलोचना की और कहा- की कि पाकिस्तान आतंकवादी समूहों के साथ बात नहीं करेगा।

Pakistan: पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी ने कहा है कि सरकार देश के कानूनों और संविधान का सम्मान नहीं करने वाले आतंकवादी संगठनों के साथ कोई बातचीत नहीं करेगी। दावोस में विश्व आर्थिक मंच की बैठक से इतर एक इंटरव्यू में भुट्टो ने प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली पिछली सरकार पर तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TTP) के प्रति तुष्टीकरण की नीति रखने का भी आरोप लगाया।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी ने कहा कि सुरक्षा बनाए रखने के लिए सरकार को अफगान अंतरिम सरकार के साथ काम करना चाहिए जिसका इन समूहों पर प्रभाव है। भुट्टो ने कहा, कि अगर हम अफगान अंतरिम सरकार के साथ काम कर सकते हैं, जिसका इन समूहों पर प्रभाव है, तो हम अपनी सुरक्षा बनाए रख सकते हैं।”

अफगानिस्तान की सरकार से उम्मीदें

बिलावल भुट्टो जरदारी ने जोर देकर कहा कि कानूनों और संविधान का सम्मान नहीं करने वाले आतंकवादी संगठनों के साथ किसी भी तरह की बातचीत में शामिल नहीं होगा। उनसे यह भी पूछा गया कि क्या पाकिस्तान उम्मीद करता है कि अफगानिस्तान में नई सरकार TTP के खिलाफ कार्रवाई करेगी.

दोनों आतंकवाद के शिकार हैं

बिलावल भुट्टो जरदारी ने कहा कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान दोनों ही आतंकवाद से पीड़ित हैं और इसका मुकाबला करने के लिए दोनों देशों के लिए मिलकर काम करना महत्वपूर्ण है। भुट्टो ने कहा, “मुझे विश्वास नहीं है कि अफगानिस्तानअपने दम पर आतंकवाद के खिलाफ प्रभावी होगी, न ही हम अपने दम पर आतंकवाद के खिलाफ सफल होंगे। हमें मिलकर काम करना होगा।”

लोकतंत्र से ही आतंकवाद को हराया जा सकता है।

बिलावल भुट्टो जरदारी ने जोर देकर कहा कि पाकिस्तान सरकार का मुख्य लक्ष्य पाकिस्तान को एक लोकतांत्रिक देश के रूप में स्थापित करना है और उनका मानना है कि चरमपंथ और आतंकवाद से निपटने का एकमात्र तरीका लोकतंत्र है। इस वर्ष उनके प्रधान मंत्री बनने की संभावना के बारे में पूछे जाने पर, उन्होंने कहा कि उस भूमिका को प्राप्त करने के लिए चुनाव जीतना एक आवश्यक शर्त है।

Latest Posts

Don't Miss