लेटेस्ट पोस्ट

श्रीनगर का लाल चौक एक बार फिर तिरंगे की आड़ में चर्चा का विषय बना हुआ है; इसके राजनीतिक महत्व को समझें।

Jammu Kashmir: कांग्रेस सांसद राहुल गांधी अपने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ अभियान के तहत 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर कश्मीर में भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे। हालांकि, झंडा फहराने का कार्यक्रम कश्मीर में कांग्रेस कार्यालय में आयोजित किया जाएगा, न कि श्रीनगर के लाल चौक पर, जैसा कि पहले बताया गया था। स्थान परिवर्तन की पुष्टि हो गई है, और अब यह स्पष्ट हो गया है कि राहुल गांधी गणतंत्र दिवस पर लाल चौक पर झंडा नहीं फहराएंगे।

लाल चौक कश्मीरी और भारतीय राजनीति दोनों में एक महत्वपूर्ण स्थान है, जिसे श्रीनगर के गौरव के रूप में जाना जाता है। यह राज्य और देश के प्रमुख राजनीतिक दलों, जैसे कांग्रेस पार्टी, नेशनल कॉन्फ्रेंस और बीजेपी के लिए एक विशेष महत्व रखता है। यह क्षेत्र कई महत्वपूर्ण राजनीतिक घटनाओं और रैलियों का स्थल रहा है। 1993 में, लाल चौक में भीषण आग लग गई थी, जिसमें 125 लोग मारे गए थे। इस दुखद घटना ने जनता और राजनीतिक नेताओं की नज़र में इस क्षेत्र के महत्व को और बढ़ा दिया है।

तिरंगा कब फहराया गया था?

अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो 1948 में भारत की आजादी के बाद, पूर्व प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ने लाल चौक पर भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहराया था। उनके साथ जम्मू-कश्मीर की तत्कालीन रियासत के नेता शेख अब्दुल्ला भी थे।

1992 में फहराया तिरंगा

लंबे अंतराल के बाद, भारतीय राष्ट्रीय ध्वज 1992 में गणतंत्र दिवस के अवसर पर भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में लाल चौक पर फहराया गया था। उस समय पूरे देश में राम मंदिर आंदोलन जोर पकड़ रहा था। दिसंबर 1991 में कन्याकुमारी से ‘एकता यात्रा’ की शुरुआत हुई थी और आज के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसमें सक्रिय रूप से शामिल थे। लाल चौक पर जब झंडा फहराया गया तो वह भी मौजूद थे। यह घटना भारत के राजनीतिक इतिहास और राम मंदिर के आंदोलन में महत्वपूर्ण स्थान रखती है।

लाल चौक का अतीत

श्रीनगर के लाल चौक का नाम मास्को के रेड स्क्वायर के नाम पर रखा गया है। 1980 में घंटा घर के नाम से जाना जाने वाला क्लॉक टॉवर वहां बनाया गया था। इसे लाल चौक का नाम देने में वामपंथी आंदोलन के नेताओं की महत्वपूर्ण भूमिका थी और बाद में यह क्रांति और परिवर्तन का प्रतीक बन गया। वर्तमान में, जम्मू-कश्मीर में धारा 370 को हटाने के साथ, राज्य में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं

Latest Posts

Don't Miss